Home Gharelu upchar Giloy Benefits and Uses:  गिलोय के फायदे, इसके औषधीय गुण

Giloy Benefits and Uses:  गिलोय के फायदे, इसके औषधीय गुण

242
0
SHARE
Giloy Benefits and Uses
Giloy Benefits and Uses

Giloy Benefits and Uses:  गिलोय के फायदे, इसके औषधीय गुण

गिलोय को आयुर्वेद में एक अहम औषधि के रूप में माने जाते हैं। आज के इस लेख में हम आपको गिलोय के बारे में विस्तृत जानकारी शेयर करने वाले हैं। आप गिलोय के बारे में जानते हैं किंतु आज के इस लेख में हम गिलोय के बारे में इतनी जानकारी देने वाले हैं जितनी प्रायः लोगों को पता नहीं है।

गिलोय के पत्ते कसैले, कड़वे और तीखे होते हैं यह वात पित्त और कफ जैसे बीमारियों को दूर करते हैं। गिलोय पाचन तंत्र को मजबूत करते हैं साथ ही आंखों के लिए भी लाभकारी है।

गिलोय का सेवन करने वाले व्यक्ति को काफी अधिक फायदा मिलता है। इसका प्रयोग बुद्धि बुद्धि, बुखार, उल्टी, खांसी, बाबासीर, टीबी, मूत्र रोग से संबंधित बीमारियों में भी किए जा सकते हैं।

गिलोय को लोग कई नामों से जानते हैं जैसे अमृता, गडुची, गिलोय, अमृता, अमृतवल्ली अर्थात यह ऐसी लता होती है जो कभी नहीं सूखती। इसके तने देखने में रस्सी जैसा पतली पतली होती है। गिलोय के पत्ते के बारे में बात करें तो इसके पत्ते पान के पत्ते जैसे होते हैं और फल मटर के दाने जैसे

आयुर्वेदाचार्य का मानना है कि गिलोय जिस वृक्ष पर चढ़ते हैं उस वृक्ष का भी कुछ ना कुछ उसमें समावेश हो जाता है। इसलिए नीम के पेड़ पर चढ़ी हुई गिलोय सबसे उत्तम माना जाता है।

गिलोय नुकसानदायक बैक्टीरिया से लेकर पेट के कीड़े को भी खत्म कर देते हैं। टीबी रोग के कारण बनने वाले जीवाणु के वृद्ध को भी गिलोय रोक देता है तथा आंत को प्रभावित करने वाले जीवाणुओं से रक्षा करती है।

Giloy Benefits and Uses — गिलोय के फायदे

आयुर्वेदिक चिकित्सक के अनुसार गिलोय के अनेक फायदे हैं यह अनेक बीमारियों में काम आने वाला औषधि है। ऐसा कहा जाता है की बीमारी के लिए यह औषधि अमृत के जैसा है। किंतु कई बीमारियों में गिलोय के नुकसान भी हो सकता है।

गिलोय का सेवन करने से पहले योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर सलाह लेना चाहिए। बिना चिकित्सक से सलाह लिए बिना कोई भी औषधि प्रयोग नहीं करना चाहिए। क्योंकि एक ही बीमारी के लिए कभी-कभी चिकित्सक अलग तरीके से उपचार करते हैं।

आंखों के रोग के लिए फायदेमंद है गिलोय

चिकित्सा का मानना है कि गिलोय आंखों के रोगों के लिए भी काफी मददगार होता है। आयुर्वेद चिकित्सक का कहना है कि 10 मीली गिलोय के रस में 1-1 ग्राम शहद तथा सेंधा नमक के साथ पीसकर आंखों में काजल जैसे लगाने से काफी फायदा मिलता है।

गिलोय रस में त्रिफला को मिलाकर काढ़ा बनाकर पीने से भी आंखों के लिए काफी लाभकारी होता है।  किंतु सेवन करते समय इसके सही मात्रा का अनुभव होना बेहद जरूरी है इसलिए चिकित्सक से परामर्श लेना उत्तम माना जाता है।

कब्ज वाले रोगियों को मिलता है फायदा

गिलोय कब्ज वाले व्यक्ति को भी काफी लाभदायक होता है। यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन गिलोय का सेवन करते हैं तो उसे कब्ज आदि समस्या से भी लाभ मिलता है। सुबह और शाम गिलोय रस का सेवन करने से अपच तथा कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।

बवासीर के रोगियों के लिए फायदेमंद

गिलोय बाबासीर के रोगियों के लिए भी लाभकारी होते हैं। हरड़, गिलोय तथा धनिया बराबर मात्रा 20 ग्राम लेकर आधा लीटर पानी में मिलाकर काढ़ा बनाकर गुरु मिलाकर सुबह-शाम लेने से यह समस्या दूर हो जाती है। ‌

इस प्रकार कुल मिलाकर देखा जाए तो गिलोय आंख की बीमारियों में, बाबासीर , कब्ज, अपच , आंत से संबंधित ,लीवर से संबंधित रोगों के लिए काफी लाभदायक होता है।

Giloy Benefits and Uses

Giloy Benefits and Uses
Giloy Benefits and Uses

>>>>>>>>>>>>>>>>>>

Disclaimer– यह जानकारी इंटरनेट के माध्यम से शिक्षा के उद्देश्य आप तक पहुंचाने का प्रयास किया गया है।

कोई भी दवा लेने से पहले योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर सलाह लें, क्योंकि रोगियों के दशा उम्र रोक की प्रकृति के अनुसार चिकित्सा की जाती है। एक रोग के लिए एक से अधिक रोगियों को दवा देने की तरीका भिन्न-भिन्न हो सकती है।

अतः अधिक जानकारी के लिए आप विशेषज्ञ या फिर चिकित्सक से परामर्श ले सकते हैं। Newsviralsk.com इस जानकारी के लिए जिम्मेवारी का दावा नहीं करता है।


घरेलू उपचार से संबंधित लेख पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here