Home Gk Gs आसमानी बिजली, इससे बचने के उपाय और इसकी शक्ति

[वज्रपात] आसमानी बिजली, इससे बचने के उपाय और इसकी शक्ति

4394
19
SHARE
Lightning thunder

आसमानी बिजली, इससे बचने के उपाय और इसकी शक्ति: Asmani Bijali kya hai. नमस्कार दोस्तों एजुकेशनल  पोर्टल Newsviralsk में बहुत-बहुत स्वागत है। दोस्तों आज की पोस्ट में हम जानेंगे तड़ित क्या होता है? इससे बचने की क्या उपाय है? तथा तड़ित के शक्तियों के बारे में।

आसमानी बिजली क्या है? इससे बचने के उपाय और इसकी शक्ति:

Lightning thunder Newsviralsk

तड़ित (Lightning) :-– जिसे आकाशीय बिजली भी कहते हैं। वायुमंडल में विद्युत आवेश का डिस्चार्ज होने से उत्पन्न जो कड़क होती है, उसे तरित कहा जाता है।
विश्व  में हर वर्ष लगभग 1 करोड़ 60 लाख तड़ित पैदा होते हैं।

कड़क के साथ आसमान से गिरने वाली बिजली को तड़ित कहते है ।

आसमान में बादलों के बीच घर्षण होने से अचानक  इलेक्ट्रोस्टेटिक चार्ज निकलती है। ये चार्ज तेजी से आकाश से जमीन की तरफ आती है।

इस समय हमेंं तेज कड़क के साथ आवाज सुनाई परती है साथ ही बिजली की स्पार्किंग  प्रकाश के रूप में दिखाई देते है, इसे आकाशीय बिजली कहते हैं ।

Lightning thunder

मानव शरीर पर इसका बुरा इफेक्ट पड़ता है।

बिजली का असर नर्वस सिस्टम पर पड़ता है, और लोगों की मौत हार्ट अटैक से हो जाती है। बॉडी के टिशूज डीप बर्न होने से नष्ट हो जाते हैं। कभी-कभी आसमानी बिजली के झटके लगे व्यक्ति अपंग भी हो जाते हैं।

कैसे बचे आसमानी बिजली से–

अपने घर के ऊपर तरित रोधी एंटीना जरूर लगवाएं और उसका संपर्क जमीन से हो, ताकि आसमानी बिजली से बचा जा सकता है।

वर्षा या आंधी के समय टेलीविजन, रेडियो, कंप्यूटर  इत्यादि जैसे विद्युत उपकरणों को पावर प्लग से निकाल दें।

वर्षा या तूफान के समय मोबाइल का प्रयोग करने से बचें।

वर्षा या आंधी के समय बिजली उपकरणों तथा धातुओं से बने वस्तुओं से भी दूर ही रहें।

इस समय पेड़ के नीचे या खुले मैदान में न जाएं। किसी घर या बिल्डिंग में छिपने की कोशिश करें।

आसमानी बिजली मिली सेंकड से कम समय के लिए आती है।

आकाशिय बिजली गिरने की सबसे अधिक संभावना दोपहर के समय होती है।

बिजली का असर महिलाओं से अधिक पुरुषों पर होता है। यानी महिलाओं पर 20% और पुरुषों पर 80% होती है।

Lightning thunder

आसमानी बिजली में कितनी शक्ति

Volt – — 10 करोड़ वोल्ट (100 MV)

Current– 1000 Amp

Heat– 27000° C

Time– 0.0005 Second

तड़ित में इतना आवाज क्यों?

इसे हम एक उदाहरण के माध्यम से आसानी से समझ सकते है। जब हम सब्जी बनाते समय गर्म तेल में मिर्च मसाला आदि डालते हैं तो तेज आवाज ( छन्न) होता है। यहां गर्म और ठंडा आपस में संपर्क में आने से ऐसा होता है। ठीक उसी प्रकार आसमानी बिजली जिसमें 27000° C तापमान है (सूर्य के सतह 6000°c से भी ज्यादा), वायुमंडलीय जल कण के संपर्क में आने से गर्जन करते हैं।

प्रकाश की चाल ध्वनि की चाल से अधिक है इसलिए पहले चमक फिर गरजने की आवाज सुनाई देती है।

प्रकाश की चाल 3 लाख किमी/से. होती है।

वायु में ध्वनि की चाल 332 मीटर/सेकेण्ड होती है।

Lightning thunder

बिजली गिरने की स्थिति में कुछ बातों का ध्यान रखे-

यदि किसी व्यक्ति के ऊपर बिजली गिर गया हो तो सिघ्र डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। बिजली के झटके लगे लोगों को छूने से कोई नुकसान नहीं होता। इसलिए इस विकट परिस्थिति में उनका सहयोग होना अति आवश्यक है।

Lightning thunder affected

यदि बादल गरज रहे हो और आपके बाल खड़े हो रहे हो, तो बिजली गिरने की संभावना है। ऐसे में नीचे दुबक कर पैरों के बल बैठे, अपने हाथ घुटने पर रख लें और सर दोनों घुटनों के बीच रखकर दुबक जाए।

Lightning thunder

लोग ये भी कहते है––  बिजली एक ही जगह पर दो बार नहीं गिर सकती , बिजली गोबर पर गिरते ही गोबर सोना बन जाता है, मकान पर गिरने से सरिया अष्टधातु बन जाती है । किंतु ये सभी मिथक है।

Lightning thunder

SSC Previous Year Vocabulary

100 English words For SSC Railway Click Here

100 English words For SSC Part –02 Click Here

GK in Hindi —- Also Read

इसे भी पढ़ सकते हैं

YouTube Channel — NewsViral SK

* YouTube चैनल के महत्वपूर्ण प्लेलिस्ट *

?दसवीं की संपूर्ण वीडियो के लिए Click Here

?सामाजिक विज्ञान Click Here

?विज्ञान Click Here

?गणित class 10th Click Here

? हिंदी कविता संग्रह Click Here

? बालमंच Click Here

? पहेलियां Click Here

? Earn money online Click Here

?kid Class Click here

?kinemaster Tutorial Click Here

? YouTube के विषय में Click Here

शिक्षा से संबंधित जानकारियों के लिए हमारे चैनल Newsviral SK को जरूर सब्सक्राइब करें।  Subscribe Now पर क्लिक करें।


19 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here