Home कविता कहानियां ऋण पर कविता | Hindi Poem By राजहंस

ऋण पर कविता | Hindi Poem By राजहंस

1407
2
SHARE
Rin vishay par Kavita By Rajhans
ऋण पर कविता राजहंस

 

ऋण

बीत गए गुलामी के दिन ,
फिर भी भारत संभल न पाया।
 भ्रष्टाचार और भ्रष्ट नीतियां,
 सब के मन में अभी भी छाया।।
 भूल गए उनके कष्टों को ,
जीवन जिसने दांव लगाया‌।
 घृणा और द्वेषो॑ का साया ,
सबके मन में अभी भी छाया।।
 झेलता रहा पूर्वजों ने दुःख,
 खुल कर सांस कभी ना पाया ।
लूट का खसोट और बेईमानी ,
सबके मन में अभी भी छाया।।
 जिसने अपनी संतानों को,
 इतना दृढ़ और सबल बनाया।
 अब तुम मुझको यह बतला दो,
 क्या तुम उनका ऋण चुकाया?

 

निचे कविताओं का लिंक है   

Click HERE

*****आपसे आग्रह की इन्हे भी पढ़े*****

Sarak vishay par kavita by Rajhans

हिन्दी कविता किसान । Farmer । By Rajhans

क्या परियाॅ॑ सचमुच होती है || kya pariya sachamuch hoti hai

उठो सवेरे हिन्दी कविता।। राजहंस

शहर की नीयत ।। राजहंस

पुष्प की विनती ।। राजहंस

है अभिलाषा मेरी इतनी ।। राजहंस

ऋण पर कविता ।। राजहंस

भूखमरी पर कविता ।। राजहंस

Aise Samaj Par Bajra Gire // ऐसे समाज पर बज्र गिरे // Rajhans

Shiksha Par Kavita By Rajhans

Dahej par kavita // Rajhans

Poem on Teacher By Rajhans

Dharti Ma ka Dukhara Hindi Kavita By Rajhans

Kaisi ho janani Hindi Kavita By Rajhans

Mata Hindi kavita // Rajhans Kumar

बाल विवाह ।। राजहंस

Pani hindi Kavita By Rajhans

koshi vibhisika par aadharit kavita Rajhans

manavta par kavita Rajhans

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here