Home Bihar board 10th Chapter 5 अर्थशास्त्र : – रोजगार एवं सेवाएं  | 10th Bihar Board...

Chapter 5 अर्थशास्त्र : – रोजगार एवं सेवाएं  | 10th Bihar Board Economics VVI Objective QnA

1475
0
SHARE
rojgar awam sewaye arthshastra subjective
rojgar awam sewaye arthshastra subjective

Chapter 5 अर्थशास्त्र : – रोजगार एवं सेवाएं  | 10th Bihar Board Economics VVI Objective QnA :  If you searching in Google Search Bar — ” रोजगार एवं सेवाएं , rojgar awam sevaye arthastra subjective,  Bihar Board Class 10th Social Science chapter  5,  social science class 10 textbook objective subjective pdf, social science class 10 in hindi, , social science class 10 pdf ” then you have come to the right place.

Here we are going to share with you some most important objective questions with answer. That’s why you should JOIN this portal www.newsviralsk.com  Telegram channel  ? Join Click HERE

Table of Contents

 अर्थशास्त्र : – रोजगार एवं सेवाएं | 10th Bihar Board Economics VVI Objective QnA


Q. रोजगार एवं सेवा में क्या संबंध है?

Ans– रोजगार और सेवाओं से तात्पर्य है जब कोई व्यक्ति अपने परिश्रम और शिक्षा द्वारा जीवन व्यतीत करने के लिए धन जमा करता है तथा उस धन को पूंजी के रूप में व्यवहार कर उत्पादन में निवेश करता है तो वह सेवा क्षेत्र उत्पन्न करता है।
यदि रोजगार में वृद्धि होती है तो इसके साथ साथ सेवा क्षेत्र का भी विस्तार होता जाता है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि रोजगार एवं सेवाएं एक दूसरे के पूरक हैं।

Q. गैर सरकारी संस्था किस प्रकार सेवा क्षेत्र के विकास को सहयोग करता है ? उदाहरण द्वारा समझाएं।

Ans– सरकारी योजनाओं का क्रियान्वयन सरकार, गैर सरकारी संस्थाओं के लिए सौंप देती है। यह संस्थाएं दिए गए योजनाओं को बड़ी कुशलता पूर्वक लोगों तक पहुंचाते हैं। साथ ही योजनाओं से संबंधित लोग अपने प्रयास से योजनाओं को विकसित करने में भी सहयोग करते हैं। दूरसंचार, बैंकिंग, बस, बीमा सेवाएं इत्यादि इन क्षेत्रों के अंतर्गत आते हैं।

कुछ ऐसे भी सेवाएं हैं जिन्हे सरकार द्वारा क्रियान्वित करने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उदाहरण के लिए यातायात, शिक्षा, बैंक, बीमा इत्यादि इन्हें सरकारी क्षेत्रों की अपेक्षा गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा प्राप्त सेवाएं लोग अधिक पसंद करते हैं।

Q. भारत विश्व का सेवा प्रदाता है, कैसे?

Ans– भारत में होटल, परिवहन एवं संचार आदि ऐसी सेवाएं है जो विश्व में अद्वितीय है। वैश्वीकरण और उदारीकरण के फलस्वरूप पर्यटन, होटल में ठहरना, घूमना, खरीददारी करना तथा प्रशिक्षण जैसी सेवाओं की मांग बढ़ती जा रही है।
बड़े-बड़े बहुराष्ट्रीय कंपनियां आउटसोर्सिंग द्वारा दूसरे कंपनी या संस्थाओं द्वारा कार्य करवाती है, यहां बहुराष्ट्रीय कंपनियों को मजदूरों पर अतिरिक्त खर्च नहीं देना पड़ता, साथ ही न्यूनतम मजदूरी पर काम हो जाता है।
भारत अपनी कुशलता था तथा निम्न मजदूरी दर के कारण यह सेवाएं उन कंपनियों को काफी कम लागत में उपलब्ध करवा देती है। अतः भारत विश्व का सेवा प्रदाता देश है।

Q. वर्तमान आर्थिक मंदी का प्रभाव भारत के सेवा क्षेत्र पर क्यों पड़ा ? वर्णन करें।

Ans– वैसे तो वैश्वीकरण का प्रभाव भारत पर भी देखने को मिला। व्यापारिक राष्ट्रों के बीच वस्तुओं की कीमत तथा गुणवत्ता के आधार पर प्रतिस्पर्धा बढ़ने लगे। लोगों को सेवा क्षेत्र का काम प्रत्यक्ष रूप से मिलने लगे।
अब दूसरे राष्ट्रों में जाकर लोग रोजगार स्थापित करने लगे। वर्तमान आर्थिक मंदी विश्व के अनेक राष्ट्रों को प्रभावित किए किंतु यह मंदी भारत को कम प्रभावित किया।
हमारे राज्यों के इंजीनियर जो विदेशों में नियुक्त थे बेकार हो गए इससे राज्य का आज बिल्कुल कम होता गया । भारत का सूचना प्रौद्योगिकी की सेवा मजबूत होने के कारण आर्थिक मंदी का असर अपने देश में बहुत कम देखने को मिला।

Q. बाह्य स्रोतीकरण (out sourcing) किसे कहते हैं?

Ans– जब कोई बहुराष्ट्रीय कंपनियां नियमित सेवाओं को स्वयं न करके किसी दूसरे कंपनी या संस्थाओं द्वारा करवाती है, तो इसे बाह्य स्रोतीकरण कहते हैं।

बाह्य स्रोतीकरण मे कम मजदूरी में ससमय काम हो जाता है, साथ में गुणवत्ता की गारंटी रहती है। दूरसंचार, यातायात, स्वास्थ्य तथा अन्य गैर सरकारी सेवाएं इसके अंतर्गत आती है‌। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि सेवा क्षेत्र का विस्तार जितना अधिक होता है, रोजगार का अवसर उतना ही अधिक मिलता।

Q. सरकारी सेवा किसे कहते हैं?

Ans–‌ जब केंद्र सरकार या राज्य सरकार कर्मचारी को काम के बदले वेतन देते हैं, तो इसे सरकारी सेवा के अंतर्गत मानते हैं‌ । सरकारी सेवा क्षेत्र के कुछ उदाहरण इस प्रकार है – सेना, शिक्षा, स्वास्थ्य, बैंकिंग, कृषि, सिंचाई, यातायात, अभियंत्रण इत्यादि।

Q. सार्वजनिक क्षेत्र क्या है?

Ans– जिन उद्योग पर सरकार का नियंत्रण हो, वे उद्योग सार्वजनिक क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं। इस उद्योग का स्वामित्व सरकार के हाथों में होती है। इसका राजकीय या सरकारी उपक्रमों के समूह को सार्वजनिक क्षेत्र की संज्ञा दी गई है। सार्वजनिक क्षेत्र अपने उत्पादन प्रक्रिया में लोग कल्याण का विशेष ध्यान रखती है।

Q. सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर में क्या अंतर है?

Ans– सॉफ्टवेयर तथा हार्डवेयर कंप्यूटर के मुख्य अंग है। दोनों में से किसी एक के नहीं रहने पर इसकी कल्पना नहीं कर सकते हैं।

सॉफ्टवेयर— सॉफ्टवेयर निर्देशों तथा प्रोग्राम्स का एक समूह है, जो किसी कार्य विशेष को पूर्ण करने का निर्देश देता है। सॉफ्टवेयर के बिना कंप्यूटर हार्डवेयर एक डिब्बा के समान है।

हार्डवेयर-– कंप्यूटर का वह भाग जिसे हम छू सकते हैं हार्डवेयर कहलाता है। जैसे — कीबोर्ड, माउस, सीपीयू, मॉनिटर इत्यादि।

Q. आर्थिक विकास के कितने क्षेत्र होते हैं?

Ans–आर्थिक विकास के मुख्यतः तीन छात्र होते हैं
कृषि क्षेत्र, उद्योग क्षेत्र तथा सेवा क्षेत्र

Q. सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़े सेवा क्षेत्रों का नाम बताएं।

Ans–कॉल सेंटर, इंटरनेट, दूरसंचार, बैंकिंग प्रणाली इत्यादि ये सभी सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़े सेवा क्षेत्र हैं।

Q. मानव पूंजी के प्रमुख घटक कौन कौन है?

Ans– मानव पूंजी का प्रमुख घटक निम्न है
>> भोजन की व्यवस्था
>> वस्त्र की उपलब्धता
>> आवास की व्यवस्था
>> बेहतर स्वास्थ्य की व्यवस्था
>> उत्तम शिक्षा की व्यवस्था

 


NEWSVIRALSK


rojgar awam sewaye arthshastra subjective
rojgar awam sewaye arthshastra subjective

Objective & Subjective प्रश्नों को पढ़ने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को जरूर ज्वाइन करें। यहां पर महत्वपूर्ण ऑब्जेक्टिव ओर सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर शेयर किए जाते हैं।

Telegram channel  ? Join Click HERE

इसे भी पढ़ें: — IMPORTANT LINKS FOR YOU

? Bihar ITI Enrance Exam GK  Science Question & Online Test — CLICK Here

? कंप्यूटर फंडामेंटल हिंदी भाषा में चित्र सहित — CLICK Here

? 12वीं (आर्ट्स) के ऑब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर & ONLINE TESTCLICK Here

? 10वीं ( बिहार बोर्ड) के ऑब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर & ONLINE TESTCLICK Here

? बाल क्लास से संबंधित पोस्ट  के लिए —CLICK Here

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here