Home Bihar board 10th Chapter -8 इतिहास: प्रेस संस्कृति एवं राष्ट्रवाद Subjective QnA Social Science 10th...

Chapter -8 इतिहास: प्रेस संस्कृति एवं राष्ट्रवाद Subjective QnA Social Science 10th Bihar Board

485
0
SHARE
press Sanskriti Awam rashtrawad Chapter 7 class 10th
press Sanskriti Awam rashtrawad Chapter 7 class 10th

Chapter -8 इतिहास: प्रेस संस्कृति एवं राष्ट्रवाद Subjective QnA Social Science 10th Bihar Board: If you searching in Google Search Bar “press Sanskriti Awam rashtrawad Chapter 7 class 10th,  social science class 10 textbook objective pdf, social science class 10 in hindi, social science class 10 pdf ” then you have come to the right place. Here we are going to share with you some most important objective questions with answer. That’s why you should JOIN this portal www.newsviralsk.com  Telegram channel   Join Click HERE


Chapter 8- इतिहास: प्रेस संस्कृति एवं राष्ट्रवाद Subjective QnA Social Science 10th Bihar Board

दोस्तों, आज हम आपके साथ शेयर करने वाले हैं इतिहास के महत्वपूर्ण प्रश्न इसे आप अपने नोटबुक में जरूर नोट कर लें। हमेशा नए-नए प्रश्नों का अध्ययन करते रहें परीक्षा के पैटर्न के बारे में अधिक से अधिक जानकारी रखें गत वर्ष के प्रश्न पत्रों का अभ्यास करने से आप अधिक से अधिक अंक प्राप्त कर सकते हैं।

इतिहास: प्रेस संस्कृति एवं राष्ट्रवाद Notes in Hindi pdf

 

Que—भारतीय प्रेस के विकास में ईसाई धर्म प्रचारकों के योगदान का मूल्यांकन करें।

Ans—भारत में 16वीं शताब्दी में मुद्रण का आरंभ गोवा राज्य में जेसुईट धर्म प्रचारकों के द्वारा किया गया और यह 19वीं शताब्दी तक संपूर्ण देश में फैल गया।
प्रेस ज्वलंत राजनीतिक एवं सामाजिक मामलों पर प्रश्न उठाने वाला जनमानस तैयार करने वाला प्रभावशाली माध्यम बना।

Que—छापाखाना यूरोप में कैसे पहुंचा?

Ans—जिस प्रकार आग, पहिया तथा लिपि संपूर्ण विश्व को नया आयाम प्रदान किया ठीक उसी प्रकार छापाखाना के अविष्कार का महत्व है।
मुद्रण कला का अविष्कार तथा उसका विकास का श्रेय चीन को जाता है। वैसे मूवेबल टाइप द्वारा मुद्रण का आविष्कार पूरब में हुआ किंतु मुद्रण कला का विकास यूरोप से ही प्रारंभ हुआ।
चीनी, जापानी, कोरियन भाषा में 40,000 से अधिक वर्ण अक्षर है। इसीलिए इतना ब्लॉक बनाना मुश्किल काम था।
पहले मुद्रण कार्य लकड़ी से बने ब्लॉक द्वारा किया जाता था। तेरहवीं शताब्दी के अंत में मार्को पोलो तथा रोमन द्वारा ब्लॉक प्रिंटिंग के नमूने यूरोप पहुंचे।

Que—गुटेनबर्ग में मुद्रण यंत्र का विकास कैसे क्या?

Ans—गुटेनबर्ग का जन्म जर्मनी के मैंज नगर में हुआ। उनके पिताजी कृषक जमींदार थे। गुटेनबर्ग अपने ज्ञान और अनुभव को बिखड़ी मुद्रण कला को नया आयाम देने के लिए किया।
मुद्रण यंत्र बनाने के लिए उसने शीशा,टीन, रांगा, विस्मत धातुओं से उचित मिश्र धातु बनाने का तरीका ढूंढ निकाला। उन्होंने बाद में उन्होंने स्याही बनाई तथा हैंड प्रेस का प्रथम बार मुद्रण कार्य के लिए प्रयोग किए। इस प्रकार 1440 ई० में शीघ्र काम करने वाला गुटेनबर्ग का मुद्रण स्रोत बनकर तैयार हो गया।

Que—मार्टिन लूथर के बारे में बताएं।

Ans—मार्टिन लूथर अमेरिका के धर्म सुधारक जिन्होंने कैथोलिक चर्च की कुरीतियों की आलोचना करते हुए पंचानवे स्थापनाएं लिखें। लूथर ने चर्च को शास्त्रार्थ करने के लिए चुनौती भी दिए। लूथर द्वारा लिखे गए स्थापनाओं की एक प्रति विटेनब वर्ग गिरजा घर के दरवाजे पर टांग दी गई। लूथर का यह विचार आम लोगों के लिए काफी लोकप्रिय हुई ।

Que—स्वतंत्र भारत में प्रेस की भूमिका पर प्रकाश डालें।

Ans—स्वतंत्र भारत में प्रेस की अहम भूमिका रही है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद प्रेस ज्वलंत राजनीतिक एवं सामाजिक प्रश्नों को उठाने वाला प्रभावशाली माध्यम बना।
प्रेस, राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय, राजनीतिक, सामाजिक संबंधों के विकास में प्रभावशाली भूमिका निभाई। यह सरकार पर नियंत्रण रखने का एक माध्यम है।
इस प्रकार यह लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में कार्य करते हैं।

Que—मराठा समाचार पत्र की शुरुआत कैसे हुई?

Ans—मराठा समाचार पत्र की शुरुआत 1881 ई० में अंग्रेजी भाषा में बंबई से ‘मराठा’ नामक समाचार पत्र से हुई। यह समाचार पत्र थोड़े ही समय में प्रसिद्धि प्राप्त कर ली क्योंकि इस पत्र के उग्र राष्ट्रवादी विचार आम जनमानस को काफी प्रभावित किए।

Que—बाइबल के बारे में संक्षेप में लिखें।

Ans—बाईबिल ईसाइयों का पवित्र धर्म ग्रंथ है। सर्वप्रथम फर्स्ट नामक साहूकार ने गुटेनबर्ग को बाइबल छापने का ठेका दिया।
बाइबल पर कोई प्रकाशन की तिथि अंकित नहीं की गई है किंतु ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि पुराने पट लाइन तथा उठ लाइन बाइबल गुटेनबर्ग के द्वारा छापी गई है।

Que—पांडुलिपि क्या है? इसकी उपयोगिता पर प्रकाश डालें।

Ans—भारत में छापाखाना के विकास से पहले आज से लेकर पांडुलिपि या तैयार की जाती थी।
हस्तलिखित वह सामग्री जो पुस्तक के रूप में छप कर लोगों के बीच नहीं आई, पांडुलिपि कहलाया।
पांडुलिपि को मजबूती देने के लिए सजिल्द किया जाता था।
पांडुलिपि काफी महंगी होती थी क्योंकि इसे बार-बार लिखना पड़ता था, इसीलिए प्रचुर मात्रा में उपलब्ध नहीं होने के कारण आम जनता तक नहीं पहुंच सका।

 

press Sanskriti Awam rashtrawad Chapter 7 class 10th
press Sanskriti Awam rashtrawad Chapter 7 class 10th

NEWSVIRALSK

Objective & Subjective प्रश्नों को पढ़ने के लिए हमारे टेलीग्राम चैनल को जरूर ज्वाइन करें। यहां पर महत्वपूर्ण ऑब्जेक्टिव ओर सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर शेयर किए जाते हैं।

 

social science chapter wise

 


Telegram channel   Join Click HERE

 


इसे भी पढ़ें: —

Bihar board latest news NewsViral SK

 Bihar ITI Enrance Exam GK  Science Question & Online Test CLICK Here

कंप्यूटर फंडामेंटल हिंदी भाषा में चित्र सहित — CLICK Here

12वीं (आर्ट्स) के ऑब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर — CLICK Here

10वीं ( बिहार बोर्ड) के ऑब्जेक्टिव प्रश्न उत्तरCLICK Here

 बिहार बोर्ड 10वी WhatsApp Group  —  ?Click here

 बिहार बोर्ड 12वी (Arts) WhatsApp Group   —  ?Click here

बिहार बोर्ड 10वी & 12वी (Arts) Telegram —   ?Click here

Facebook Fans Page लाइक करे ?Click here

Twitter  पर जरूर फॉलो करें ?Click here

 बाल क्लास से संबंधित पोस्ट  के लिएCLICK Here

 घर बैठे मैट्रिक परीक्षा की तैयारी हेतु दिए गए  पर क्लिक करें  ?Click here

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here