Home समाचार बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव (द्वालख) | पांच भव्य मंदिर

बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव (द्वालख) | पांच भव्य मंदिर

2705
18
SHARE

बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव (द्वालख)  पांच भव्य मंदिर: (Harneswar Nath Mahadev Dwalakh) भक्त वृंद आज का यह पोस्ट काफी खाश है।बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव के विषय में यह छोटा पोस्ट जरूर है किंतु हमें पोस्ट के माध्यम से सभी देवी-देवताओं के दर्शन करने का सौभाग्य प्राप्त होगा।

इस पोस्ट में हम आप श्रद्धालु भक्तों के लिए पावन भूमि द्वालख में अवस्थित पांच भव्य मंदिरों के तस्वीरें शेयर करेंगे। कमेंट बॉक्स जय जय कार से भर जाना चाहिए।

बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव (द्वालख)

अपनी तीव्र जलधारा से सबको मर्माहट कर देने वाली कोशी नदी की अनेकों उपधाराओं में बहने वाली भुतही, बलान और तिलयुगा के संगम तटीय भाग पर अवस्थित बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव मंदिर सदियों से लोक आस्था का पवित्र स्थल रहा है।

यह मंदिर मधुबनी जिला के मधेपुर प्रखंड अंतर्गत द्वालख गांव के उत्तर पश्चिम दिशा में अवस्थित है। वैसे तो द्वालख गांव में कई मंदिर हैं जैसे पूर्व में बाबा विश्वकर्मा जी का मंदिर, पश्चिम में माता भगवती विराजमान है। दक्षिण दिशा में बाबा डीहवार का मंदिर है तो मध्य भाग में श्री लक्ष्मी नारायण जी विराजमान है।

यहां कुल पांच भव्य मंदिर है, उनमें से बाबा हरनेश्वर नाथ महादेव मंदिर काफी प्राचीन है। जो सिर्फ द्वालख ग्रामवासियों के लिए ही नहीं बल्कि आस-पास के हजारों गांव के लोगों के लिए आस्था का मुख्य केंद्र है।

बाढ़ के समय

माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण तत्कालीन दरभंगा महाराज श्री लक्ष्मेश्वर सिंह बहादुर के मुख्य कार्यवाहक श्री झूना लाल शाह के तत्वावधान में सन् 1858 से 1868 ई० के मध्य हुआ था। इस मंदिर के रखरखाव, पूजा-अर्चन,संरक्षण एवं समुचित व्यवस्था हेतु 12 एकड़ खेतिहर जमीन दान में दिया गया था। जो वर्तमान समय में कुछ लोगों का निजी संपत्ति बन कर रह गया है।

मंदिर जब बनकर तैयार हो गया तब मंदिर के पूर्व दिशा में ठीक सामने एक विशालकाय तालाब खुदवाया गया। उस तालाब के मध्य एक लंबी जाठ बनी हुई थी और तालाब में नीचे उतरने के लिए सीढ़ियां बनी हुई थी। उसी सीढ़ियों से उतर कर श्रद्धालु तालाब में स्नान करने जाते और उसी सीढ़ियों से मंदिर के मुख्य द्वार तक पहुंचते थे।

ऐसी मान्यता है कि तालाब पूजन और महायज्ञ में लाखों देवी देवताओं का आवाहन कर यज्ञ संपन्न करवाया गया था। शायद लाखों देवी देवताओं के आवाहन के कारण इस गांव का नाम देवलख रखा गया। जो बाद में देवलख का अपभ्रंश रूप दुआलक और फिर बदलकर द्वालख हो गया।

इस मंदिर में लगभग 1000 साल पुराना विशिष्ट धातु और अनमोल पत्थरों के 8 शिवलिंग, नंदी, माता भगवती और श्री गणेश जी की प्रतिमा विराजमान है। मंदिर के मुख्य द्वार पर अष्ट धातु से निर्मित सबा 3 क्विंटल का एक विशाल घंटा लगा हुआ था। जिसकी सुमधुर ध्वनि दूर-दूर तक के गांव में स्पष्ट सुनाई पड़ता था।

इतना ही नहीं हमारे दादा जी कहा करते थे कि मंदिर के दक्षिण और पश्चिम भाग में बहुत ही रमणीय पुष्प वाटिका था जिसकी महक हमेशा वातावरण को आनंदित करता रहता था। उन्हीं के मतानुसार मंदिर के शिखर पर एक स्वर्ण त्रिशूल लगाया गया था और उन त्रिशूल से मंदिर के सामने तालाब के जाठ तक स्वर्ण कड़ी लगी हुई थी। जिससे मुगल शैली में बना इस भव्य मंदिर की नक्काशी और कलाकृति लोगों को और अचरज में डाल देता था।

ऐसा कहा जाता है कि एक बार एक चोर उस स्वर्ण त्रिशूल और स्वर्ण कड़ी को चुराने के मकसद से मंदिर पर चढ़ा लेकिन वह कामयाब नहीं हो सका आधी दूरी से ही गिरकर चकनाचूर हो गया। इस घटना के बाद उस स्वर्ण त्रिशूल और स्वर्ण कड़ी को उतार लिया गया और उसके स्थान पर एक अनमोल धातु की त्रिशूल वहां पर लगा दिया गया।

इस मंदिर के विषय में एक और कहानी बहुत ही प्रचलित है, कि इस मंदिर का जब निर्माण हो गया तब इसे बनाने वाले कारीगर को काफी मात्रा में धन दौलत दिया गया और फिर उनका दोनों हाथ काट लिया। जिससे वह भविष्य में इस प्रकार का दूसरा मंदिर निर्माण ना कर सके। प्रमाण के रूप में मंदिर के दक्षिणी भाग में ऊपर उस कारीगर का चित्र खुदवा दिया गया जिसे आप आज भी देख सकते हैं।

18 वीं सदी का बना यह भव्य मंदिर कोसी नदी के प्रलयकारी जलधारा से आहत सा हो गया। और मंदिर की उत्तरी और पश्चिमी भाग उसी महाविनाशक जलधारा का शिकार बन बह गया। फिर नदी उसे अपना बहाव क्षेत्र बना लिया। पूर्वी भाग जहां पर विशालकाय तालाब हुआ करता था। उसे नदी अपनी जलोढ़ रेत से भर दिया।आज उस जगह को लोगों ने अपना वासडीह बना लिया। फुलवारी वाले क्षेत्र में लोग अपना कलमबाग लगाना शुरू कर दिया।

मंदिर लगभग चारों ओर से क्षतिग्रस्त हो चुका है। और कोसी नदी मंदिर के संपूर्ण प्रांगण को अपने अधिकार में ले लिया। इतने पुराने और भव्य मंदिर का यह हाल देखा नहीं जाता। ग्रामीण के मन में इच्छा तो जरूर होती है कि इस प्राचीन मंदिर का पुनरोद्धार हो लेकिन कोई आगे नहीं आना चाहता।

कुछ समय पहले बिहार पुरातत्व विभाग द्वारा इस मंदिर के सौंदर्यीकरण, पुनरोद्धार एवं संरक्षण की बात की गई। जिसमें लगभग दो, ढाई करोड़ रूपए खर्च होने की भी बात की गई। लेकिन पता नहीं इस मंदिर का भाग्य कब उदय होगा। और ग्राम वासियों की आस्था से जुड़ा या भव्य आकर्षक अनमोल पहचान कब उभर कर सामने आएगा।

भगवान भोले शंकर ही जाने पर हम लोग भगवान भोले शंकर से प्रार्थना करें कि हे भोलेनाथ कोई ऐसा चमत्कार कर दे जिससे इस मंदिर का पुनरोद्धार हो जाय।

।जय भोलेनाथ।

Newsviralsk Mega Test
Newsviralsk mega test

इसे भी पढ़ें

?करेंट अफेयर्स पढ़ने के लिए — CLICK Here

?हिंदी कविता और कहानियां पढ़ने के लिए — CLICK Here

?अमित आनंद की रचनाएं — CLICK Here

?Official Website— NewsviralSK. Click here

 विविध --जीके, गणित, विशेष समाचार, टेक्नोलॉजी इत्यादि 
मानव शरीर से जुडें महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर
देश और उनके राष्ट्रीय गान
भारत के प्रमुख शोध संस्थान एवं उनके मुख्यालय  PART – 3
भारत के प्रमुख शोध संस्थान एवं उनके मुख्यालय  PART – 2
भारत के प्रमुख शोध संस्थान एवं उनके मुख्यालय  PART – 1
{ Part- 2 } भारत में सबसे बड़ा, ऊंचा और लम्बा
Part -01भारत में सबसे बड़ा, ऊंचा और लम्बा
{ Part-2 } भारत में प्रथम पुरुष  ......
{Part 2 } भारत की प्रथम महिला
भारत की प्रथम विविध
{ Part-1 } भारत की प्रथम महिला ........
भारत के प्रथम पुरुष Part-1
नदियों के किनारे बसे प्रमुख शहर
GK ज्वालामुखी 🔥 ( दिवाना बना दिया) सामान्य ज्ञान
बंदर के बारे में रोचक जानकारियां हिंदी में
मछलियों के बारे रोचक जानकारियां
कान्हा राष्ट्रीय उद्यान से संबंधित रोचक जानकारियां
अफ्रीका से संबंधित रोचक जानकारियां
भारत के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा
महात्मा गांधी से संबंधित रोचक प्रश्नोत्तर
एशिया महादेश के विषय में रोचक जानकारियां
Samsung Galaxy M01में 1000 रुपये की कटौती और कुछ
आखिर क्या है?, 5G नेटवर्क के संभावित नुकसान,
ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए
स्नेहा प्रकाश को मिला डॉ० सरोजनी नायडू अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार
जापान और टोक्यो के विषय में रोचक जानकारियां
[Part-9] GK अजब गजब आपके लिए
[Part-8] अजब गजब GK आपके लिए  
[Part-7] अजब गजब GK आपके लिए
[Part-6] अजब गजब GK आपके लिए
14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में क्यों मनाते हैं?
विज्ञान:- राशि, मात्रक और प्रतीक
[Part-5] अजब गजब GK
भारत के महान व्यक्तित्व - ज्ञान का खजाना
[Part-4] अजब गजब GK आपके लिए
Intragram से संबंधित रोचक जानकारियां
अजीब अजीब GK के प्रश्न (Part--3)
अजीब अजीब GK के प्रश्न (Part--2)
अजीब अजीब GK के प्रश्न
अगस्त के महत्त्वपूर्ण दिवस
संत बाबा कारू के आराध्य देव नकुचेश्वर महादेव
फेसबुक से संबंधित रोचक जानकारियां
स्मार्टफोन में पानी चला जाए तो पहले ये काम जरूर करें
Google maps होंगे रंग बिरंगे
आधार कार्ड कैसे डाउनलोड करें
आधार कार्ड को मोबाइल से लिंक कैसे करें?
इमरजेंसी कॉल के लिए नेटवर्क तथा बैलेंस की जरूरत नहीं क्यों?
कौन क्या है (15 अगस्त 2020)
सुपर -३० के आनंद सर, सुशांत सिंह राजपूत के विषय में ये कहा
प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना संपूर्ण जानकारी
राम मंदिर -- टाइम कैप्सूल
भारत के महान वैज्ञानिक
कोण किसे कहते हैं? प्रकार और परिभाषा (हिंदी और अंग्रेजी में)
महत्वपूर्ण दर्शनीय स्थल
नदियों के उद्गम स्थल और मुहाना
घोड़े के बारे में रोचक जानकारियां
प्रमुख वचन और नारे
रूद्र हेलीकॉप्टर के विषय में
आसमानी बिजली के विषय में
शेर के विषय में 16 रोचक तथ्य
बिहार के कमिशनरियां
चतुर्भुज के प्रकार, परिभाषा और सूत्र
Tiktok सहित 59 Apps बैन
सूर्य ग्रहण 21जून क्या करें? क्या न करें?
भारत में नदी के किनारे बसे नगर
भारत के रेल मंडल और मुख्यालय
कृषि क्षेत्र में क्रांतियां
विश्व की प्रमुख संगठन और मुख्यालय
उपकरण और उसके कार्य
देश और उनके राष्ट्रीय स्मारक
भारत के प्रमुख बंदरगाह
भारत की प्रमुख नदियां
भारत के राज्य और राजधानियां --क्षेत्रफल
विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न
भारत के राष्ट्रपति
भारत के उपराष्ट्रपति
भारत के प्रधानमंत्री
महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय दिवस
भारत की प्रमुख झीलें और संबंधित राज्य
बिहार के जिले, क्षेत्रफल ,जनसंख्या, चौहद्दी इत्यादि
ग्रह और उपग्रह से संबंधित रोचक प्रश्न
Important Day click here (English)
Online पैसा कमाए
कंप्यूटर क्या है ? विशेषता, इतिहास  Click Here

याद रखें www.NewsViralsk.com/GK.html

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके अपने दोस्तों को जरूर शेयर करें

18 COMMENTS

  1. कोई भी कथा लेखन में जब अतितों का वर्णन किया जाता है।तो पढने के बाद मन हर्षित हो जाता है। love u sir jee

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here