Home Navratri Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि में ये काम भूलकर ना करें माता क्रोधित...

Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि में ये काम भूलकर ना करें माता क्रोधित हो जाती हैं

447
0
SHARE
Shardiya Navratri 2023
Shardiya Navratri 2023

Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि में ये काम भूलकर ना करें माता क्रोधित हो जाती हैं

नवरात्रि हिंदुओं का एक प्रमुख पर्व है। नवरात्र मूल रूप से संस्कृत का एक शब्द है जिसका अर्थ होता है  ‘नौ रातों का समय’। नवरात्रि में इन नौ रात और 10 दिनों के दौरान माता भगवती के नवों रूप की पूजा अर्चना की जाती है। यह महापर्व चंद्र आधारित हिंदू महीने में चैत्र और अश्विन प्रतिपदा से नवीन तक मनाया जाता है। शारदीय नवरात्र का समापन दशहरा को दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन के साथ होता है।

भक्ति वृंदा आज के इस आर्टिकल में हम जानने वाले हैं की नवरात्रि में कुछ ऐसे कार्य है जिसे हमें भूलकर भी नहीं करना चाहिए। यदि यह कार्य करते हैं तो माता भगवती अप्रसन्न हो जाती है। इस वर्ष नवरात्रि का शुभारंभ 15 अक्टूबर 2023 से तथा समापन 23 अक्टूबर को होगी। नवरात्रि का विशेष महत्व होता है। इन 10 दिनों में हमें कुछ खास बातों पर विशेष ध्यान रखना होता है नहीं तो देवी माता का प्रकोप झेलना पड़ सकता है।

Shardiya Navratri 2023

पंडितों के अनुसार नवरात्रि में लहसुन प्याज युक्त भोजन नहीं करना चाहिए। ऐसा मानता है कि राहु और केतु के रक्त से ही लहसुन और प्याज की उत्पत्ति हुई है। इस कारण लहसुन और प्याज को अशुद्ध माना जाता है अतः नवरात्रि के समय लहसुन और प्याज का सेवन करने से नवरात्रि पूजन का फल नहीं मिल सकता।

भक्तों नवरात्रि के समय काले रंग के वस्त्र, चमड़े से बने कोई भी वस्तुएं नहीं पहनना चाहिए। नवरात्रि में नाखून, दाढ़ी, बाल इत्यादि नहीं काटना चाहिए। नवरात्रि में तन और मन से शुद्ध होकर पूजा अर्चना करना चाहिए। पुरूषों अथवा महिलाओं को भी नवरात्रि में बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए।

यदि आप नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाते हैं तो उसमें निरंतर तेल या घी देते रहे। आखिरी दिन इसे  बुझने दे, इसे कभी भी फूंक मार कर ना बुझाए। नवरात्रि में दुर्गा चालीसा या दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करना चाहिए वह भी उच्चारण के साथ..

नवरात्रि में कन्या, महिला, बुजुर्ग, पुश-पक्षियों को बेवजह परेशान करने से मां भगवती आप पर क्रोधित हो जाती है। आप किसी भी जीव जंतु को मानसिक या शारीरिक रूप से चोट न पहुंचाएं। माता भगवती की पूजा अर्चना करते समय इन बातों पर विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है।

Shardiya Navratri 2023
Shardiya Navratri 2023

Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि में ये काम भूलकर ना करें माता क्रोधित हो जाती हैं

नवरात्रि में इन मंत्रों का जाप लाभकारी

या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता,
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

ओम जयंती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी।
दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते।।

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते।।

ओम ह्रीं दुं दुर्गायै नम:.

ओम श्रीं ह्रीं श्रीं दुर्गा देव्यै नम:.

ओम ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै.

सर्वाबाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वितः।
मनुष्यो मत्प्रसादेन भवष्यति न संशय॥

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम्।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तो: स्वस्थै: स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि।
दारिद्रयदु:खभयहारिणि का त्वदन्या सर्वोपकारकरणाय सदाद्र्रचिता।।

इसे भी पढ़ें

मां वैष्णवी दुर्गा का खुला नेत्रपट, क्या विशेष है द्वालख और मधेपुर लक्ष्मीपुर चौक दुर्गा पूजा

चैत्र नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती पाठ करने के विशेष लाभ

Durga Puja image | Durga Puja in India

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here