Home कविता कहानियां बहुत अच्छा हुआ ( हिंदी कहानी ) Satish Kumar

बहुत अच्छा हुआ ( हिंदी कहानी ) Satish Kumar

3352
0
SHARE
Bahut Achcha hua Hindi kahani Lekhak Satish
Bahut Achcha hua Hindi kahani Lekhak Satish

Bahut Achcha hua Hindi kahani Lekhak Satish

बहुत अच्छा हुआ – Hindi Kahaniya

किसी देश में एक राजा था। उनके मुख्यमंत्री काफी पढ़े-लिखे और धार्मिक स्वभाव के ज्ञानी थे। राज्य में कोई भी घटना होता, तो उसमें उसका एक ही जवाब आता – बहुत अच्छा हुआ …………..

एक दिन की बात है राजा अपना तलवार साफ कर रहा था । अचानक तलवार उनके पैर पर गिर गए और एक उंगली कट गई। मंत्री जी वहां बैठे थे उनका तो स्वभाव ही ऐसा था। मंत्री के मुंह से निकल पड़ा– बहुत अच्छा हुआ ……..

राजा यह सुनकर काफी क्रोधित हुए और तत्क्षण उस मंत्री को जेल में बंद करवा दिए। इस बात की उन्हें कोई गम नहीं और जाते-जाते मंत्री बोले- बहुत अच्छा हुआ ……..

इस बात को सुनकर राजा आश्चर्यचकित रह गए। कैसा बावला है? जेल जाते वक्त भी बहुत अच्छा हुआ …….. ऐसा क्यों बोला है ….. पता नहीं

2 महीने बीत गए मंत्री जेल में है। एक दिन राजा अपने साथियों के साथ शिकार खेलने जंगल गए। घोड़े पर सवार होकर धनुष बाण लिए घनघोर जंगल में पहुंच गए। कुछ ऐसी घटना घटी सभी दोस्त बिछड़ गए, राजा उस जंगल में अकेले पर गए थे।

साथियों का अता पता नहीं- अब क्या होगा? राजा सोच में डूबा हुआ आगे बढ़ता जा रहा था। रास्ते में आदिवासियों के झुंड को आते देखा, उनको क्या पता कि यह राजा है। आदिवासियों ने राजा को पकड़कर अपने घर ले गए।

Bahut Achcha hua Hindi kahani Lekhak Satish
Bahut Achcha hua Hindi kahani Lekhak Satish

राजा इस सोच में डूबा हुआ था, आखिर मेरी साथ होगा क्या? राजा को अच्छे से नहलाए गए। फिर कपड़े पहना कर देवी के मंदिर लाया गया।

आज आदिवासी राजा को बलि चढ़ाएंगे – बलि…। उस आदिवासी झुंड से एक बूढ़े व्यक्ति आऐ और राजा की कटी उंगली को देखकर बोले इस आदमी का बलि नहीं हो सकता, क्योंकि इसका बली हो चुका है। इस आदमी का एक उंगली कटा हुआ है।

राजा को छोड़ दिया गया। राजा खुशी पूर्वक घर आए। आते ही अपने सिपाहियों को बोले कि उस मंत्री को जेल से मुक्त किया जाए क्योंकि उन्होंने हमारी जान बचाई है।

इस बात को सुनकर सभी आश्चर्यचकित है। मंत्री को राजा के पास लाया गया। राजा का एक ही प्रश्न था यदि मेरा एक कटा उंगली मेरी जीवन बचा सकती है तो हमें यह बताओ कि उस दिन तुमने जेल जाते वक्त बहुत अच्छा हुआ क्यों कहा? तुमको इससे क्या फायदा मिला।

मंत्री का जवाब सुनकर पाठक बंधु आप भी झूम जाएंगे। मंत्री बोले यदि मैं जेल में ना होता तो, मैं आपके साथ जंगल में होता और यदि आपके साथ होता तो आपको बली ना देकर मेरी बली होती।

क्योंकि आपका उंगली तो कटा हुआ था मेरा नहीं….

इसलिए आपसे आग्रह की ऊपर वाले जो करते हैं अच्छाई के लिए ही करते हैं। बहुत अच्छा हुआ…….

दोस्तों यह छोटा सा कहानी आपको कैसा लगा आप कमेंट के माध्यम से जरूर बताओ।

????????????????????????

  • कविता & कहानियां पढ़ने के लिए   CLICK Here
  • करंट अफेयर्स —- CLICK Here
  • सामान्य ज्ञान (GK & GS) —  CLICK Here

????????????????????????

नीचे दिए गए शेयर बटन पर क्लिक करके अपने दोस्तों के बीच शेयर कर सकते हैं।?????

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here